bhojpurimanthan
This post has been viewed 444 times

बिहार में शिक्षा व्यवस्था पूरा तरीका से ध्वस्त, सरकार इंटर के परीक्षा दोबारा लेवे: सीपी ठाकुर

इंटर के खराब रिज़ल्ट के चलते बिहार में शुरू भईल बवाल प भाजपा के राज्यसभा सांसद अवुरी पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर राज्य सरकार प निशाना सधले अवुरी एकरा खाती राज्य के खराब शिक्षा व्यवस्था के जिम्मेदार बतवले।

भाजपा के वरिष्ठ नेता सीपी ठाकुर कहले कि बिहार के शिक्षा व्यवस्था खराब हो चुकल बा, जदी शिक्षा व्यवस्था पटरी प होईत त अयीसन गड़बड़ी ना होईत। उ सरकार से इंटर परीक्षा के रद्द क के दोबारा परीक्षा लेवे अवुरी गड़बड़ी के सुधारे के मांग कईले।

सीपी ठाकुर कहले, “शिक्षा व्यवस्था ध्वस्त हो चुकल बिया, पूरा तरीका से ध्वस्त हो चुकल बिया। सरकार के चाही कि दोबारा से परीक्षा लेवे अवुरी बाकी गड़बड़ी के जांच क के ठीक करे।”

भाजपा सांसद कहले कि अयीसन छात्र जवन कि प्रतियोगी परीक्षा में पास भईल बाड़े अवुरी बिहार के इंटर परीक्षा में फेल हो गईल बाड़े, ओइसन छात्र के कॉपी के विशेष तौर प जांच करे के चाही अवुरी पता लगावे के चाही कि गड़बड़ी कहाँ भईल बा।

राज्य के शिक्षा व्यवस्था से जुडल एगो सवाल के जवाब में सीपी ठाकुर कहले, “बिहार के शिक्षा व्यवस्था पटरी प नईखे। जदी पटरी प होईत त अयीसन काहें होईत? हमनी के एही बोर्ड से पढ़ले बानी अवुरी बड़े-बड़े परीक्षा देले बानी, लेकिन कबहूँ ना गड़बड़ होखत रहे।”

शिक्षा व्यवस्था में गड़बड़ी से जुडल सवाल प ठाकुर कहले कि “पाता नईखे का भईल बा, लेकिन खाली गड़बडिए होखता । सरकार के एकरा प ध्यान देवे के चाही। बोर्ड के अपना के ठीक करे के चाही अवुरी ईमानदार अधिकारी के बोर्ड के कामकाज में लगावे के चाही।”

ओने इंटर रिजल्ट में गड़बड़ी के चलते राज्य भर में होखत प्रदर्शन अवुरी विरोध के देखत बिहार बोर्ड छात्र संघ के बातचीत खाती बोलवलस। हालांकि बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर कहले कि परीक्षा के रिज़ल्ट में कवनो गड़बड़ी नईखे।

पटना में मीडिया के संबोधित करत आनंद किशोर कहले कि “कुछ जानबूझ के भ्रम फैलावतारे। ना त केहु के जादे नंबर दिहल बा, ना कम। परीक्षा के रिज़ल्ट में कवनो गड़बड़ी नईखे भईल।”किशोर कहले कि जदी कहीं कवनो गड़बड़ी बा त उ परीक्षा के फॉर्म भरे के समय भईल बा अवुरी एकरा खाती बोर्ड जिम्मेदार नईहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *