एगो चिठ्ठी पिंकुआ के पापा के नामे

bhojpuri manthan
May 18, 2017

सेवा में पिंटूआ के पापा सांझा माई के दीया बारत इहे मनावsतानीं की रउरा लोधियाना में कंचन चरत होखsब…हमार इयाद त रउरा शुके-सोमार के आवत होइ..बाकी ए जी…हम उठत-बइठत इहे मनावे नी की “हे काली माई,हे डीह बाबा..हे दसो दिशा के देवता-पीतर लो हमरा पिंटुआ के पापा के नीके से राखब सभे…. ए रों..देखीं ना… जेठ कपार पर लूत्ती लेखा जरताs..गेंहू फटक के रख देले बानीं…मंसूरी बाकी बा..कूछ जौ भी…

Read More >>

कातिक पूर्णिमा : प्रकाश के आनन्द

kartik
November 14, 2016

केशव मोहन पाण्डेय ;दिल्ली ; कातिक महीना सबसे पुण्य महीना कहल जाला। कातिक में विविध उत्सव आ परब-त्यौहार मनावल जाला। धनतेरस जहाँ लक्ष्मी माई के आराधना  के दिन ह, ऊँहवे दिवालिओ के लक्ष्मी-गणेश जी के पूजा कइल जाला। भाई-दूज के बाद चित्रगुप्त पूजा, छठ-पूजा, तुलसी-विवाह  बाद कातिक-पूर्णिमा के स्नान। ई सब पूजा-आराधना अलगा-अलगा बहाना के साथवे लक्ष्मी-पूजन के मनसा व्यक्त करत रहेला। साल का आठवां महीना कार्तिक महीना हवे। साल…

Read More >>